हुस्न के तलबगार रोमांटिक शायरी Husn Ke Talabgar Romantic Shayari

तेरी यादों के नशे में अब चूर हो रहा हूँ,
लिखता हूँ तुम्हें और, मशहूर हो रहा हूँ।
🌷🌷🌷
🌷🌷🌷
Teri Yaadon K Nashe Me
Ab Choor Ho Raha Hu
Likhta Hu Tumhe Aur
Mashhoor Ho Raha Hu...
husn-ke-talabgar-romantic-shayari
सफ़र वहीँ तक है जहाँ तक तुम हो,
नज़र वहीँ तक है जहाँ तक तुम हो,
हज़ारों फूल देखे हैं इस गुलशन में मगर,
खुशबू वहीं तक है जहाँ तक तुम हो।
🌷🌷🌷
🌷🌷🌷
Safar Wahi Tak Hai Jahan Tak Tum Ho
Nazar Wahi Tak Hai Jahan Tak Tum Ho
Hazaro Phool Dekhe Hain Is Gulshan Me Magar
Khushbu Wahi Tak Hai Jahan Tak Tum Ho..

💘Husn Ke Talabgar Romantic Shayari Collection, हुस्न के तलबगार रोमांटिक शायरी💘

husn-ke-talabgar-romantic-shayari
कभी बादल कभी बारिश
कभी उम्मीद के झरने,
तेरे एहसास ने छूकर
मुझे क्या क्या बना डाला।
🌷🌷🌷
🌷🌷🌷
Kabhi Badal Kabhi Barish
Kabhi Ummid Ke Jharne,
Tere Ehsas Ne Chhookar
Mujhe Kya Kya Bana Dala..
husn-ke-talabgar-romantic-shayari
ये जो निगाहों से हमारे दिल को हलाल करते हो,
करते तो वैसे जुर्म हो, लेकिन कमाल करते हो।
🌷🌷🌷
🌷🌷🌷









Ye Jo Nigahon Se Hamare Dil Ko Halal Karte Ho
Karte To Waise Jurm Ho Lekin Kamal Karte Ho...
husn-ke-talabgar-romantic-shayari
इश्क़ ने हमें बेनाम कर दिया,
हर ख़ुशी से हमें अंजान कर दिया,
हमने तो कभी सोचा भी नहीं था कि हमें मोहब्बत हो,
लेकिन आपकी एक नज़र ने हमें नीलाम कर दिया।
🌷🌷🌷
🌷🌷🌷
Ishq Ne Hme Benaam Kar Diya
Har Khushi Se Hame Anjan Kar Diya
Hmne To Kabhi Socha Bhi Hme Mohabbat Ho
Lekin Apki Ek Nazar Ne Hme Nilam Kar Diya...

💓हुस्न के तलबगार रोमांटिक शायरी, Husn Ke Talabgar Romantic Shayari Collection 💓

husn-ke-talabgar-romantic-shayari
आपके हुस्न के तलबगार हुए बैठे हैं,
आपकी एक झलक को बेक़रार हुए बैठे हैं,
आपके नाज़ुक हाथों से सज़ा पाने को,
कितनी सदियों से गुनाहगार हुए बैठे हैं।
🌷🌷🌷
🌷🌷🌷
Apke Husn K Talabgar Hue Baithe Hain
Apki Ek Jhalak Ko Beqarar Hue Baithe Hain
Apke Nazuk Hathon Se Saza Paane Ko
Kitne Sadiyon Se Gunahgar Hue Baithe Hai
husn-ke-talabgar-romantic-shayari
आख़िर छोटी सी ज़िन्दगी में रखा क्या है,
इश्क़ भी अगर बुरा है तो फिर अच्छा क्या है।
🌷🌷🌷
🌷🌷🌷
Aakhir Chhoti Si Zindagi Me Rakha Kya Hai
Ishq Bhi Agar Bura Hai To Phir Achha Kya Hai...
husn-ke-talabgar-romantic-shayari

Subscribe Now For Regular Free Updates:

0 Response to "हुस्न के तलबगार रोमांटिक शायरी Husn Ke Talabgar Romantic Shayari"

Iklan Atas Artikel

Iklan Tengah Artikel 1

अभी दूसरे पाठकों द्वारा पढ़ा जा रहा है