-->

    Ehsas, Khwab, Khyal, Chahat, Deewangi Shayari

    अब उसके साथ रहूं या उससे किनारा कर लूँ,
    ज़रा ठहर जा ऐ दिल, मैं ये फैसला दुबारा कर लूँ।
    💓💓
    💓💓
    Ab Uske Sath Rahu
    Ya Usse Kinara Karlu,
    Zara Thahar Ja Ai Dil
    Mai Ye Faisla Dubara Karlu💓
    ehsas-khwab-khyal-chahat-deewangi-shayari

    🌷Ehsas, Khwab, Khyal, Chahat, Deewangi Shayari 🌷

    ख़ुशी से जीने के लिए ज़रा सा प्यार काफ़ी है,
    नहीं है चाह मिलने की, बस इंतज़ार काफ़ी है,
    कोई बात नहीं कि कोई हमसे दूर है कितना,
    दूर रह कर भी मोहब्बत का इक़रार काफ़ी है।
    💝💝
    💝💝
    Khushi Se Jeene Keliye Zara Sa Pyar Kafi Hai
    Nahi Hai Chah Milne Ki, Bs Intzar Kafi Hai
    Koi Baat Nhi K Koi Hmse Door Hai Kitna
    Door Rahkar Bhi Mohabbat Ka Iqrar Kafi Hai💝
    ehsas-khwab-khyal-chahat-deewangi-shayari
    ग़म ने हंसने ना दिया, ज़माने ने रोने ना दिया,
    इस उलझन ने मुझे चैन से जीने ना दिया,
    थक के जब सितारों से पनाह ली,
    नींद आई तो तेरी याद ने सोने ना दिया।
    💘💘
    💘💘

    Dard Shayari

    Gham Ne Hansne Na Diya, Zamane Ne Rone Na Diya
    Is Uljhan Ne Mujhe Chain Se Jeene Na Diya
    Thak Ke Jab Sitaron Se Panah Li
    Nind Aayi To Teri Yad Ne Sone Na Diya💘
    ehsas-khwab-khyal-chahat-deewangi-shayari
    एक ख़्वाब, एक ख़्याल, एक हक़ीक़त है तू,
    ज़िन्दगी में आने वाली हर ज़रूरत है तू,
    जिसको रोज़ प्यार करने का दिल करे,
    अरे यार वही प्यारी सी चाहत है तू।
    🌷🌷
    🌷🌷

    Love Shayari

    Ek Khwab, Ek Khyal, Ek Haqiqat Hai Tu
    Zindgi Me Aane Wali Har Zarurat Hai Tu
    Jisko Roz Pyar Karne Ka Dil Kare
    Are Yar Wahi Pyari Si Chahat Hai Tu🌷
    ehsas-khwab-khyal-chahat-deewangi-shayari
    संभालो लाख दिल को पर
    मोहब्बत हो ही जाती है,
    नज़र आख़िर नज़र है
    शरारत हो ही जाती है।
    💞💞
    💞💞
    Sambhalo Lakh Dil Ko Par
    Mohabbat Ho Hi Jati Hai,
    Nazar Aakhir Nazar Hai Na
    Shararat Ho Hi Jati Hai💞
    ehsas-khwab-khyal-chahat-deewangi-shayari
    मेरी मौजूदगी का एहसास तुझको दिलाऊं कैसे,
    तू ज़िन्दगी है, ज़िन्दगी को धड़कनें सुनाऊं कैसे,
    बात होती है मेरी ख़ुदा से हर रात ही मगर,
    तू मुक़द्दर में ही नहीं, तुझे पाऊं तो पाऊं कैसे!
    💔💔
    💔💔

    🌷 Ehsas, Khwab, Khyal, Chahat, Deewangi Shayari🌷

    Meri Maujudgi Ka Ehsas Tujhko Dilau Kaise
    Tu Zindgi Hai, Zindgi Ko Dhadkane Sunau Kaise
    Bat Hoti Hai Hai Meri Khuda Se Hr Raat Hi Magar
    Tu Muqaddar Me Hi Nhi, Tujhe Pau To Pau Kaise💔
    ehsas-khwab-khyal-chahat-deewangi-shayari
    वो शाम भी अजीब थी
    ये शाम भी अजीब है,
    वो कल भी आस पास थी
    वो आज भी क़रीब है।
    💕💕
    💕💕
    Wo Sham Bhi Ajeeb Thi
    Ye Sham Bhi Ajeeb Hai,
    Wo Kal Bhi Aas Pas Thi
    Wo Aaj Bhi Qareeb Hai💕
    ehsas-khwab-khyal-chahat-deewangi-shayari

    Latest Posts