Shayari ka khazana, शायरी का खजाना

Shayari ka khazana, शायरी का खजाना

शायरी - सिर्फ पाने का नाम इश्क़ नहीं होता

Shayari

Shayari - कल क्या खूब इश्क़ से इंतक़ाम लिया मैंने

कल क्या खूब इश्क़ से इन्तेकाम लिया मैंने,

कागज़ पर लिखा इश्क़ और उसे ज़ला दिया मैंने।

💔💔💖💖

Shayari - ये इश्क़ जिसके क़हर से डरता है ज़माना
ये इश्क़ जिसके कहर से डरता है ज़माना,

कमबख्त मेरे सब्र के टुकड़ों पे पला है।


शायरी - हमारी आंख से गिरता जो तेरे प्यार का मोती
हमारी ऑख से गिरता, जो तेरे प्यार का मोती,

उसे होठों से चुन लेता अगर तुम सामने होती।

💖💖
💓💓

Shayari ka khazana - तेरे ख्याल, तेरे ख्वाब, तेरी अधूरी मुलाकातें
तेरे ख्याल, तेरे ख्वाब, तेरी मुलाकातें
मेरे पास गुनगुनाने को तेरे अफ़साने बहुत हैं।
💞💞💞
💝💝💝
Shayari ka khazana
Shayari - सुकून मिलता है जब उनसे बात होती है
सुकून मिलता है जब उनसे बात होती है,

हजार रातों में वो एक रात होती है,

निगाह उठाकर जब देखते हैं वो मेरी तरफ,

मेरे लिए वही पल पूरी कायनात होती है।

💘💘
🌷🌷

शायरी - नज़र में शोखियाँ लब पर, मोहब्बत का फसाना है

नजर में शोखियाँ लब पर

मोहब्बत का फ़साना है,

मेरी उम्मीद की ज़द में

अभी सारा ज़माना है,

कई जीते हैं दिल के देश पर

मालूम है मुझको,

सिकंदर हूँ मुझे एक रोज

खाली हाथ जाना है।

💗💣
💜💜

Shayari - काश मुझे भी सीखा देते तुम, भूल जाने का हुनर
काश मुझे भी सिखा देते तुम
भूल जाने का हुनर,
थक गए हैं हर लम्हा हर सांस
तुम्हें याद करते करते।
💓💓💓


Shayari
Shayari - वो कह के चले इतनी मुलाक़ात बहुत है
वो कह के चले इतनी मुलाकात बहुत है,

मैंने कहा रुक जाओ अभी रात बहुत है।

आंसू मेरे थम जाएँ तो फिर शौक़ से जाना,

ऐसे में कहां जाओगे बरसात बहुत है।

💘💘
🌷🌷

Shayari - कभी क़रीब तो कभी दूर होक रोते हैं
कभी क़रीब तो कभी दूर हो के रोते हैं,

मोहब्बतों के भी मौसम अजीब होते हैं।
ये भी पढ़ें:
👉 चुटकुले
👉 रोमांटिक शायरी
👉 इंसान का मनोविज्ञान
👉 डॉ अब्दुल कलाम की प्यारी बातें

Shayari- ऐसा नहीं के दिन नहीं ढलता रात नहीं होती
ऐसा नही कि दिन नहीं ढलता

रात नहीं होती,

बस सब अधूरा अधूरा सा लगता है

जब तुमसे बात नहीं होती।

💙💚

3 Responses to "Shayari ka khazana, शायरी का खजाना"

  1. bohot achhi shayari,aur aapka blog v achha hai

    ReplyDelete
  2. वक़्त ठहरा है न ठहरेगा किसी के खातिर;
    उम्र भर रोएं गा इन लम्हो को गवाने वाला;
    माँ की ममता न बटजाए इस बटवारे मे;
    सोचसमझ कर दीवारउठा आगन मे उठाने वाले,

    ReplyDelete

Iklan Tengah Artikel 1

Iklan Tengah Artikel 2

Iklan Bawah Artikel