Bookmark

मकान मालिक के बेटे के साथ पत्नी बनाती थी संबंध । Real Story । Crime Story

मकान मालिक का बेटा अजय अपने किरायेदार रमेश कुमार की पत्नी के रूम के पास गया और कहने लगा भाभी क्या मैं अंदर आ सकता हूँ? रमेश कुमार की पत्नी संगीता बोली, आप क्यों नहीं अंदर आ सकते हैं? आपका ही घर है। ऐसा सुनते ही मकान मालिक का बेटा अजय रूम के अंदर गया और उनके बेड पर बैठ गया। रमेश कुमार की पत्नी संगीता उसके लिए चाय बनाने लगी। तभी वह कहने लगा भाभी आप बहुत खूबसूरत हो, आप जैसी खूबसूरत लड़की मैंने नहीं देखी। संगीता मुस्कुराने लगीं, तभी अजय बोला भाभी अपना पर्सनल नंबर दे दो। मैं आपसे बात करना चाहता हूँ। संगीता ने अपने मोबाइल का नंबर दे दिया और वह चाय पीकर वापस चला गया। अब संगीता और मकान मालिक के बेटे अजय से फ़ोन पर बातें होने लगीं, बातें होते होते दोनों के बीच प्यार हो गया और प्यार का परवान इतना चढ़ गया कि दोनों एक दूसरे से तन्हाई में मिलना चाहते थे।

मकान मालिक के बेटे के साथ पत्नी बनाती थी संबंध । Real Story । Crime Story

जो भाई बंधु अपनी पत्नी को प्रदेश ले जाते हैं और किराये के रूम मैं उन्हें अकेला छोड़कर ड्यूटी पर चले जाते हैं तो दोस्तों इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा शेयर कीजिये ताकि उन लोगों तक भी पोस्ट पहुंचे और वो सावधान हो सके। दोस्तों या चढ़ती जवानी और बेलगाम हवस की कहानी उत्तर प्रदेश के बलरामपुर जिले के गांव से सामने आई है। रमेश कुमार दिल्ली में कोई जॉब करता था। घरवालों की अनबन होने के कारण वो अपने पत्नी को लेकर दिल्ली चला गया और किराये का मकान ले लिया और उस में रहकर जॉब करते हुए अपना गुजर बसर करने लगा।

makan-malik-k-bete-ke-sath-patni-banati-thi-sambandh-real-story

एक दिन की बात है। रमेश कुमार ड्यूटी पर चला गया और उसकी पत्नी संगीता घर में अकेली लेटी हुई थी। तभी मकान मालिक का बेटा अजय आ गया और आवाज लगाने लगा। संगीता दरवाजा खोली तब आप पूछने लगा भाभी क्या मैं अंदर आ सकता हूँ? संगीता बोली आपका ही घर है क्यों नहीं आ सकते? वो अंदर गया और बेड पर बैठ गया। संगीता उसके लिए चाय बनाने लगी, तभी वह कहने लगा भाभी आप जैसी खूबसूरत लड़की मैंने कभी नहीं देखी। तभी संगीता मुस्कुराने लगी और वह कहने लगा भाभी अब अपना पर्सनल नंबर दे दो।

मैं आपसे बात करना चाहता हूँ। संगीता ने उसे अपना नंबर दिया और फिर दोनों के बीच प्यार भरी बातें होने लगीं। एक रात की बात है। रमेश कुमार का नाइट ड्यूटी था और वह घर नहीं आया। तभी संगीता मकान मालिक के बेटे अजय को फ़ोन लगाकर बताई की आज उनका नाइट ड्यूटी है, आज वहाँ नहीं आएँगे। ऐसा मौका पाकर आ जाए। संगीता के रूम के पास आ गया और दरवाजा खटखटाने लगा। वह दरवाजा खोल ली और वह अंदर चला गया। फिर दरवाजा बंद कर लिया। दोनों बेड पर बैठकर प्यार भरी बातें करने लगे। फिर दोनों एक दूसरे के साथ नागिन की तरह लिपट गए और दोनों एक दूसरे के साथ संबंध बनाने लगे।

अब मकान मालिक का बेटा अजय और संगीता दोनों के प्यार का परवान इतना बढ़ गया। दोनों के बीच अवैध संबंध का सिलसिला इतना चलता गया कि पति रमेश के ड्यूटी पर जाते ही संगीता मकान मालिक के बेटे अजय को फ़ोन करती और वहाँ सारा सारा दिन उसके साथ रूम में रहता और जिस दिन रमेश कुमार का नाइट ड्यूटी रहता। वह सारी सारी रात अजय उसी के रूम में रहता और दोनों एक दूसरे के साथ अवैध संबंध बनाते रहते। 1 दिन रमेश कुमार ड्यूटी पर जाने वाला था। और उसकी पत्नी संगीता उसके लिए नाश्ता बना रही थी। तभी रमेश कुमार ने अपने पत्नी संगीता के मोबाइल को उठाया और उसमें देखने लगा कि किसका फ़ोन आता है तो उसमें एक नंबर ऐसा था जिसपर बार बार फ़ोन किया गया था। वो नंबर अपने मोबाइल में उसने सेव कर लिया और फिर वो ड्यूटी पर चला गया। ड्यूटी पर पहुंचते ही रमेश कुमार उस नंबर पर डायल किया और नंबर डायल करते ही अजय कुमार मकान मालिक का बेटा फ़ोन उठाया और बोला हैलो कौन? मगर रमेश कुछ भी नहीं बोला और उधर मकान मालिक का बेटा अजय बार बार हैलो हैलो करता रहा और बोलता रहा अब कौन बोल रहे हो भाई ज़रा उधर से बोलो क्यों फ़ोन लगाये हो? जब रमेश कुमार पहचान गया कि अब मकान मालिक का बेटा अजय तुरंत उसने कॉल कट कर दिया और फिर ड्यूटी से लौटते ही रमेश कुमार ने एक दूसरा किराये का मकान ढूंढा और दूसरे सुबह वो उस रूम में शिफ्ट हो गया और अजय के रूम को खाली कर दिया और अपने पत्नी के मोबाइल में जो सिम था वो अपना ले लिया और उसको एक नया सिम दे दिया और उसने अपना नंबर डायल कर दिया और कहने लगा जब मेरा जरूरत होगा तो मेरे पास फ़ोन करना और ऐसा कहकर रमेश कुमार ड्यूटी पर चला गया।

उधर रमेश कुमार की पत्नी संगीता अपने बॉयफ्रेंड अजय से मिलने के लिए व्याकुल हो रही थी। उसको अजय का नंबर जबानी याद था। फिर वहाँ उसने अपने मोबाइल में अजय का नंबर डायल किया और उससे बात करने लगी और उसने पता बताया की मैं इस जगह पर हूँ। अजय कुमार पहुँच गया और फिर दोनों के बीच प्रेम प्रसंग शुरू हो गया। 1 दिन की बात है रमेश ड्यूटी पर जा रहा था और ड्यूटी पर जाते ही रास्ते में उसने अपनी पत्नी के नंबर पर फ़ोन किया। जब फ़ोन किया था उसका फ़ोन बीज़ी था।

बात समझ गया कि दाल में कुछ काला है और फिर वह ड्यूटी पर ना जाकर के घर वापस लौट आया और घर वापस आया तो वह घर के अंदर नहीं गया। वह घर के बहार दूर ही एक जगह पर बैठकर घर की निगरानी करने लगा। थोड़ी देर बाद ही अजय पूर्व मकान मालिक का बेटा उसके रूम के पास आया और उसने आवाज लगाया तुरंत उसकी पत्नी संगीता ने दरवाजा खोला। दरवाजा खोलते ही वह अंदर गया और दोनों फिर दरवाजा बंद कर लिए। दरवाजा बंद करके दोनों बेडरूम में जाकर और एक दूसरे के साथ प्रेम प्रसंग करने लगी।

अजय को अपने घर के अंदर जाते देख रमेश कुमार गुस्से से आग बबूला हो गया और तुरंत वहाँ से उठा और अपने घर के दरवाजे के पास पहुँच गया और दरवाजा खटखटाने लगा। रमेश की पत्नी संगीता और अजय दोनों रूम में ही थे। दोनों दरवाजा जब नहीं खोले तो रमेश पड़ोसी के घर में गया और उसके घर में होते हुए उसके छत पर गया और उसके छत से फिर अपने छत पर गया। छत से फिर वह अंदर घर में गया। रमेश कुमार के घर में पहुंचते ही उसकी पत्नी संगीता और रमेश कुमार की पत्नी का जो प्रेमी था, अजय दोनों ने पकड़ लिया और रमेश कुमार को गला दबाकर उसे मौत के घाट उतार दिया। मगर जीस पड़ोसी के घर में से रमेश अपने घर में आया था। वह पड़ोसी इन घटनाओं को देख रहा था। तभी उसने पुलिस को फ़ोन किया और मौके पर पुलिस आ गई और अजय को और रमेश कुमार की पत्नी संगीता को दोनों को अरेस्ट कर लिया और रमेश कुमार के लाश को कब्जे में लेकर उसे पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया और इन दोनों को जेल भेज दिया। तो दोस्तों आपराधिक मानसिकता को समझें, सावधान रहें, सतर्क रहे और अपने परिवार को सुरक्षित रखें, मिलते हैं एक नई खबर के साथ अगले पोस्ट में।

https://youtu.be/SR8qLI4RdCM

Sharing Is Caring
Post a Comment

Post a Comment