Bookmark

बॉडीगार्ड से संबंध बनाती थी मां और बेटी। सच्ची कहानी । ExposeTime

बॉडीगार्ड करण भूलकर रणजीत की बेटी प्रिया के बेडरूम में पहुँच गया। प्रिया जस्ट स्नान करके आई थे और कपड़े बदल रही थी। करन को देखते ही वह क्रोधित हो गईं और कहने लगी तुम यहाँ कैसे आ गए? करन कहने लगा मैं अभी मैं नया नया हूँ। सर ने मुझे फाइल लेने के लिए भेजा था। मुझे पता नहीं था की आपका ये रूम है और मैं गलती से आ गया। प्रिया कहने लगी मैं अभी अपने पापा से बताती हूँ जो तुम मुझे इस तरह घूर कर देख रहे थे। करण कहने लगा मेरे नौकरी का सवाल है, मैं मुझसे गलती हो गयी। मैं भूल से आ गया। मेरे सर से मत कहना, नहीं तो मेरी नौकरी चली जाएगी। वह कहने लगी नहीं, मैं अभी अपने पापा से बताती हूँ। करन कहने लगा मैम आप जो कहोगी मैं वो करूँगा मगर सर से मत कहना। तभी प्रिया कहने लगी ठीक है, मैं जो कहूँगी वो करोगे? कारण कहने लगा हाँ मैं करूँगा। वह कहने लगी मेरे पापा को ऑफिस छोड़कर तुरंत वापस घर आ जाओ। वह कहने लगा मैं कैसे आ सकता हूँ? मुझे तो सर की रखवाली करना है उनकी सुरक्षा करनी है। प्रिया कहने लगी तो ठीक है, मैं अपने पापा से बता देती हूँ। तुम्हारी हरकतों के बारे में वह कहने लगा ठीक है माम्। मैं जाता हूँ सर को छोड़ कर आता हूँ, किसी तरह उनसे बहाना बनाके आऊंगा।

बॉडीगार्ड पर हुई मां और बेटी दीवानी । सच्ची कहानी । ExposeTime

रंजीत सर को ऑफिस ले गया और उनसे कहने लगा सर मुझे 1 घंटे की छुट्टी दे दीजिये, मुझे बहुत अर्जेन्ट में जाना है, बहुत जरुरी काम है। रणजीत सर ने करण को छुट्टी दे दिया और वो रंजीत के घर पहुँच गया। उधर प्रिय कारण का इंतजार कर रही थी। जैसे ही करण रणजीत सर के घर पहुंचा तभी प्रिया बाहर का दरवाजा बंद कर ली और उसे अपने बेडरूम में ले गई और उसे कहने लगी मेरी इच्छा को तुम्हे पूरा करना पड़ेगा। ऐसा कहते हुए वह अपने कपड़े उतारने लगी। तभी कारण कहने लगा मैम ऐसा मत करो, मैं ऐसा नहीं कर सकता। तभी वहाँ उसके गाल पर एक चांटा लगाते हुए बोली तो ठीक है, मैं अपने पापा को तुम्हारी हरकतों के बारे में बता देती हूँ। अब करन करें तो क्या करे? उसे प्रिया की इच्छाओं को पूरा करना पड़ा। दोनों नागिन की तरह बेडरूम में निपट गए और फिर दोनों एक दूसरे के साथ नाजायज संबंध स्थापित करने लगे।
bodyguard-se-sambandh-banati-thi-maa-beti-real-story
उधर, प्रिया की सौतेली माँ करन को और प्रिया को दोनों को आपत्तिजनक स्थिति में देख रही थी, तभी वह आवाज लगाने लगी। जैसे ही आवाज लगाई करन और प्रिय दरवाजा खोलकर रूम के बाहर आये। कभी हुआ करण को पकड़ लिया और बोली तुम प्रिया के साथ यही सब कर रहे हो, तुम्हे तो मेरे पति के साथ रहना चाहिए, तुम्हे उनकी सुरक्षा करनी चाहिए। तुम प्रिया के साथ ये सब कर रहे हो। मैं अभी अपने पति को बताती हूँ और ऐसा कहते हुए प्रिया की सौतेली माँ अपना मोबाइल निकालती है तभी करण कहता है मैम सर से मत कहो नहीं तो मेरी नौकरी चली जाएगी। आप जो कहोगी मैं वो करूँगा तभी प्रिय की सौतेली माँ करण को पकड़ कर अपने बेडरूम में ले जाती है और दरवाजा बंद कर लेती है और कहती है, ठीक है, मैं जो कहती हूँ उसे तुम्हें करना पड़ेगा। और ऐसा कहते हुए वह उसके कंधे पर हाथ रख देती है और फिर उससे लिपट जाती है।
करण प्रिया की माँ की जिस्म की प्यास को बुझाने लगता है। दोनों एक दूसरे के साथ नाजायज संबंध स्थापित करने लगते हैं। अब कारण हर दिन रणजीत सर को उनके ऑफिस छोड़कर उनके घर आ जाता और माँ और बेटी के जिस्म की प्यास को बुझाता रहता है।
एक दिन रणजीत सर को शंका हो जाता है की क्या बात है? जो करन मुझे छोड़कर 1 घंटे के लिए गायब हो जाता है और वह करन पर निगाह रखने लगते हैं। जैसे ही करण उनके घर पर जाता है वह भी उसके पीछे पीछे चले जाते हैं और करण के सारी हरकतों को वहाँ देख लेते है। तभी वहाँ पुलिस को फ़ोन करते हैं और पुलिस मौके पर आ जाती है और करण को रंगे हाथों पकड़ लेती है और ठुकाई ऑपरेटर करन की ठुकाई करते हुए पुलिस उसे जेल भेज देती है। तो दोस्तों इस बेलगाम भरी कहानी को सुनकर अपनी राय कमेंट में जरूर लिखें। क्या कारण को अपने सर को इस बात को बताना चाहिए था या नहीं? तो दोस्तों सावधान रहें, सतर्क रहे और अपने परिवार को सुरक्षित रखें। आप सभी प्यारे पाठक बंधुओं को प्यारभरा नमस्कार।


https://youtu.be/wts_2Omwgs4
Sharing Is Caring
1 comment

1 comment

  • BONGARU
    BONGARU
    12 June
    Hi sir aapka number milega please 🙏🏻🙏🏻
    Reply