Pyar Zindagi Shayari मनाएं दिल को हम कैसे खुदाया खैर हो जाए

कितना अच्छा लगता है ना
जब मोहब्बत में कोई कहे
क्यूँ करते हो किसी और से बात
क्या मैं काफी नहीं आपके लिए।
💐💐💐💐

ज़िन्दगी शायरी 🌷🌷


उम्र में, ओहदे में, कौन कितना बड़ा है, फर्क नही पड़ता,
सजदे में, लहजे में, कौन कितना झुकता है, बहुत फर्क पड़ता है।
🌹🌹🌹🌹
pyar-zindagi-shayari

उदास ना रहा कर तेरी मुस्कान अच्छी लगती है,
दीदार तो दीदार है तेरी याद भी अच्छी लगती है।
💓💓💓💓

अब उनके दिल पे लग जाती है हमारी बातें,
जो  कहते थे
तुम कुछ भी कहो अच्छा लगता है।
💔💔💔💔

खामोश तुम्हारी नजरों ने
एक काम गजब का कर डाला,
पहले थे हम दिल से तन्हा
अब खुद से ही तन्हा कर डाला।
💘💘💘💘

मेरे दिल से खेल तो रहे हो तुम पर जरा सम्भल के,
ये थोडा टूटा हुआ है कहीं तुम्हे ही लग ना जाए।
💔💔💔💔

ज़िन्दगी शायरी 🌷🌷 Zindagi Shayari

जख्म कहां कहां से मिले है, छोड़ इन बातो को,
जिंदगी तु ये बता, अभी सफर कितना बाकी है।
💘💘💘💘

हम तो जोङना जानते हैं
तोङना तो सीखा ही नहीं,
खुद टूट जाते हैं अक्सर
किसी को छोङना सिखा ही नहीं।
🌹🌹🌹🌹

डाकिए के भेष में आया था वक़्त,
और इक ख़ाली यादों का लिफ़ाफ़ा दे गया।
🥀🥀🥀🥀

हर कोई मुझे जिंदगी जीने का तरीका बताता है,
उन्हें कैसे समझाऊँ की कुछ ख्वाब अधुरे हैं
वर्ना जीना मुझे भी आता है।
💞💞💞💞

हँसकर कबूल क्या कर लीं सजाएँ मेने,
ज़माने ने दस्तूर ही बना लिया हर इलज़ाम मूझ पर लगाने का।
❣️❣️❣️❣️

दुनियां खरीद लेगी हर मोड़ पर तुझे Zindagi Shayari


दुनिया खरीद लेगी हर मोड़ पर तुझे,
तूने जमीर बेचकर अच्छा नहीं किया।
💐💐💐💐

दर्द बनकर ही रह जाओ हमारे साथ,
सुना है दर्द बहुत वक़्त तक साथ रहता है।
💕💕💕💕

बोल कर झूठ बना लेते हम भी तमाम रिश्ते मग़र,
चुन लिया हमने सच बोल कर तन्हाईओं भरा सफ़र।
🥀🥀🥀🥀
pyar-zindagi-shayari
मेरे मरने के बाद हम तुम्हे हर एक तारे में नजर आया करेंगे,
तुम दुआ माँग लिया करना हम टूट जाया करेंगे।
💓💓💓💓

हुए बदनाम मगर
फिर भी न सुधर पाए हम,
फिर वही शायरी, फिर वही इश्क,
फिर वही तुम।
💐💐💐💐

रोज आता है मेरे दिल को तसल्ली देने,
ख्याल-ए-यार को मेरा ख्याल कितना है।
💓💓💓💓

Purana Ishq Zindagi Shayari

फिर किसी मोड़ पर मिल जाऊँ तो मुँह फेर लेना,
पुराना इश्क़ है, फिर उभरा तो क़यामत होगी।
💞💞💞💞

वो सुना रहे थे अपनी वफाओ के किस्से,
हम पर नज़र पड़ी तो खामोश हो गए।
💘💘💘💘

बहुत रोका लेकिन रोक ही नहीं पाया,
मुहब्बत बढ़ती ही गयी मेरे गुनाहों की तरह।
🥀🥀🥀🥀

मेरी महफ़िल में अभी नज़्म की इरशाद बाक़ी है,
कोई थोड़ा ही भीगा है, अभी बरसात बाकी है।
💖💖💖💖

काश मेरा घर तेरे घर के करीब होता,
मोहब्बत ना सही देखना तो नसीब होता।
💘💘💘💘

कलेजा बाहर आ गया फट कर,
अलविदा कहा जब उसने गले लिपट कर।
🌹🌹🌹🌹

ज़िंदगी शायरी 🌷🌷


मोहब्बत का परिंदा हूँ यारों में किसी से बैर नहीं रखता,
जब तक पड़ोसन नहीं आ जाती मैं छत पर पैर नहीं रखता।
💖💖💖💖

मेरा दिल तुम ही रख लो न,
बड़ी फ़िक्र रहती है इसे तुम्हारी।
❣️❣️❣️❣️

मनाएं दिल को हम कैसे ख़ुदाया ख़ैर हो जाए,
बहुत तक़लीफ़ देता है जो अपना ग़ैर हो जाए।
💕💕💕💕

आँखों से भी लिखी जाती है दास्तानें
हर कहानी को कलम की जरूरत नहीं होती।
💐💐💐💐

मुझे छोड़कर वो खुश हैं, तो शिकायत कैसी,
अब मैं उन्हें खुश भी न देखूं, तो मोहब्बत कैसी।
💓💓💓💓

Post a Comment

Previous Post Next Post

POST ADS1